Vishwakarma Shram Samman Yojana-आवेदन प्रक्रिया, दस्तावेज़

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना क्या है ?

(Vishwakarma Shram Samman Yojana)विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा राज्य में पारंपरिक कारीगरों और शिल्पकारों को वित्तीय सहायता और सहायता प्रदान करने के लिए शुरू की गई एक सरकारी पहल है। इस योजना का उद्देश्य प्रशिक्षण कार्यक्रमों, वित्तीय सहायता और रोजगार के अवसरों की पेशकश करके कुशल श्रमिकों को सशक्त बनाना और उनका उत्थान करना है।

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के लाभ

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के तहत उत्तर प्रदेश के कारीगरों और शिल्पकारों को अनेक लाभ दिए जाते हैं। राज्य के शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में बढ़ई, दर्जी, टोकरी बुनकर, नाई, सुनार, लोहार, कुम्हार, हलवाई, मोची और हस्तशिल्प जैसे पारंपरिक व्यापारी इन लाभों के लिए पात्र हैं।

प्रमुख लाभों में से एक छह दिनों की अवधि के लिए निःशुल्क प्रशिक्षण का प्रावधान है। इस प्रशिक्षण का उद्देश्य कारीगरों के कौशल को बढ़ाना और उन्हें उनके संबंधित ट्रेडों के लिए आवश्यक ज्ञान से लैस करना है। इसके अतिरिक्त, पात्र लाभार्थियों को 10,000 रुपये से 10 लाख रुपये तक की वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है। यह वित्तीय सहायता उन्हें अपना व्यवसाय स्थापित करने या उसका विस्तार करने, उपकरण खरीदने और अन्य संबंधित खर्चों को पूरा करने में मदद करती है।

इसके अलावा, विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना का उद्देश्य लाभार्थियों के लिए रोजगार के अवसर पैदा करना है। यह योजना हर साल लगभग 15,000 व्यक्तियों के लिए रोजगार सृजित करने का लक्ष्य रखती है, जिससे राज्य भर में कुशल श्रमिकों की आजीविका में सुधार हो।

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना की पात्रता

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के लिए पात्र होने के लिए, आवेदकों को कुछ मानदंडों को पूरा करना होगा। सबसे पहले, उन्हें उत्तर प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए। दूसरे, न्यूनतम आयु आवश्यकता 18 वर्ष या उससे अधिक है। ये पात्रता मानदंड सुनिश्चित करते हैं कि योजना के लाभ योग्य व्यक्तियों के लिए सुलभ हैं जो पारंपरिक व्यवसायों में लगे हुए हैं।

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के लिए आवेदन कैसे करें

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के लिए आवेदन प्रक्रिया सीधी है और इसे ऑनलाइन पूरा किया जा सकता है। योजना के लिए आवेदन करने के लिए नीचे दिए गए चरणों का पालन करें:

चरण 1: उद्योग और उद्यम संवर्धन निदेशालय की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।
चरण 2: होम पेज पर विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के विकल्प पर क्लिक करें।
चरण 3: अगले पेज पर न्यू यूजर रजिस्ट्रेशन का विकल्प चुनें।
चरण 4: पंजीकरण फॉर्म में सभी आवश्यक जानकारी भरें, जिसमें योजना का नाम, नाम, जन्म तिथि, मोबाइल नंबर, पिता का नाम, राज्य, ईमेल आईडी और जिला शामिल है।
चरण 5: विवरण भरने के बाद, पंजीकरण प्रक्रिया को पूरा करने के लिए सबमिट बटन पर क्लिक करें।

आवेदन जमा करने के बाद, इसकी समीक्षा की जाएगी, और योग्य आवेदकों को विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के तहत प्रदान किए जाने वाले लाभों के लिए विचार किया जाएगा।

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना की स्थिति कैसे जांचें

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के लिए अपने आवेदन की स्थिति की जांच करने के लिए, नीचे दिए गए चरणों का पालन करें:

चरण 1: उद्योग और उद्यम संवर्धन निदेशालय की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।
चरण 2: होम पेज पर विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के विकल्प पर क्लिक करें।
चरण 3: अगले पेज पर, एप्लिकेशन स्टेटस व्यू फॉर्म का पता लगाएं।
चरण 4: प्रदान किए गए क्षेत्र में अपना आवेदन नंबर दर्ज करें।
चरण 5: अपने आवेदन की स्थिति देखने के लिए बटन पर क्लिक करें।

इन चरणों का पालन करके, आवेदक अपने आवेदन की प्रगति को आसानी से ट्रैक कर सकते हैं और अपने विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना आवेदन की स्थिति के बारे में सूचित रह सकते हैं।

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के लिए एक पंजीकृत उपयोगकर्ता के रूप में कैसे लॉगिन करें

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के पंजीकृत उपयोगकर्ता इन चरणों का पालन करके अपने खातों में लॉग इन कर सकते हैं:

चरण 1: उद्योग और उद्यम संवर्धन निदेशालय की वेबसाइट पर जाएं।
चरण 2: होम पेज पर विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के विकल्प पर क्लिक करें।
स्टेप 3: अगले पेज पर रजिस्टर्ड यूजर लॉगइन ऑप्शन पर क्लिक करें।
चरण 4: लॉगिन फॉर्म में अपना उपयोगकर्ता नाम, पासवर्ड और प्रदान किया गया कैप्चा कोड दर्ज करें।
चरण 5: अपने पंजीकृत उपयोगकर्ता खाते तक पहुंचने के लिए लॉगिन बटन पर क्लिक करें।

लॉग इन करके, पंजीकृत उपयोगकर्ता विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के तहत दी जाने वाली विभिन्न सेवाओं और लाभों का लाभ उठा सकते हैं।

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना उत्तर प्रदेश में पारंपरिक कारीगरों और शिल्पकारों के उत्थान और समर्थन के उद्देश्य से एक महत्वपूर्ण सरकारी योजना है। नि:शुल्क प्रशिक्षण कार्यक्रमों, वित्तीय सहायता और रोजगार के अवसरों के माध्यम से, योजना कुशल श्रमिकों को सशक्त बनाने और उनके स्वरोजगार और विकास को बढ़ावा देने का प्रयास करती है।

इस योजना में बढ़ई, दर्जी, टोकरी बुनकर, नाई, सुनार, लोहार, कुम्हार, हलवाई, मोची और हस्तशिल्प सहित पारंपरिक व्यापारियों की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है। उन्हें आवश्यक संसाधन और सहायता प्रदान करके, विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना का उद्देश्य इन पारंपरिक व्यापारों को संरक्षित और बढ़ावा देना और कारीगरों की आर्थिक भलाई सुनिश्चित करना है।

Conclusion- Vishwakarma Shram Samman Yojana

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना पारंपरिक कारीगरों और शिल्पकारों को सशक्त बनाने और उनके उत्थान की दिशा में उत्तर प्रदेश सरकार की प्रतिबद्धता का प्रमाण है। इस योजना का उद्देश्य मुफ्त प्रशिक्षण, वित्तीय सहायता और रोजगार के अवसर प्रदान करके राज्य में कुशल श्रमिकों के कौशल और आजीविका को बढ़ाना है।

एक आसान ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया के माध्यम से पात्र लाभार्थी योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं और प्रदान किए गए लाभों का लाभ उठा सकते हैं। इसके अतिरिक्त, पंजीकृत उपयोगकर्ता अपने खातों तक पहुंच सकते हैं और अपने आवेदनों की स्थिति पर अपडेट रह सकते हैं।

विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना पारंपरिक व्यवसायों को संरक्षित करने, स्वरोजगार को बढ़ावा देने और उत्तर प्रदेश की समग्र अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने में एक उत्प्रेरक के रूप में कार्य करती है। कुशल श्रमिकों के कौशल और प्रतिभा में निवेश करके, योजना राज्य में कारीगरों और शिल्पकारों के उज्जवल भविष्य का मार्ग प्रशस्त करती है।

FAQ’s -Vishwakarma Shram Samman Yojana

Q1। विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना हेल्पलाइन नंबर क्या है?
ए 1। विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना हेल्पलाइन नंबर 1800-1800-888 है।

Q2। विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना की शुरुआत किसने की?
ए2. विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना की शुरुआत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने की थी।

इन अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों को संबोधित करके, हमारा उद्देश्य स्पष्टता प्रदान करना और विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के बारे में जानकारी चाहने वाले व्यक्तियों की सहायता करना है।


Important Readings:

Leave a Comment